Welcome to egujaratitimes.com!

टैक्स बचाने वालों के लिए.....
सरकार बही खाते में घाटा दिखाने वाली कंपनियों पर टैक्स लगा सकती है

 

16:17 17/06/2019
अब सरकार उन कंपनियों को टैक्स के दायरे में लाने की तैयारी कर रही है, जो जानबूझकर अपने बही खाते में घाटा दिखाकर टैक्स बचाती हैं. सरकार इसके लिए न्यूनत वैकल्पिक टैक्स (मैट) के नियमों में बदलाव करने का विचार कर रही है. वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, आने वाले बजट या उसके बाद सरकार बही खाते में घाटा दिखाने वाली कंपनियों पर टैक्स लगा सकती है.

हालांकि प्रस्ताव के मुताबिक, वाकई में नुकसान उठाने वाली कंपनियों को सरकार टैक्स क्रेडिट पर रियायत दे सकती है. देश में ढाई लाख से ज्यादा ऐसी कंपनियां हैं जो जानबूझकर दशकों से खुद को घाटे में दिखा रही हैं. ये कंपनियां बैंकों से लोन लेती हैं और लंबे समय तक इनडायरेक्ट टैक्स भी देती आ रही हैं, लेकिन डायरेक्ट टैक्स यानी कॉर्पोरेट टैक्स नहीं देती हैं.

टैक्स चुराने वाली कंपनियां दरअसल सरकार के सामने दो तरह से अपना हिसाब किताब पेश करती हैं. पहला इनकम टैक्स के हिसाब से दूसरा कंपनी एक्ट के मुताबिक. ऐसी कंपनियां इनकम टैक्स में बहुत सारे खर्चे दिखाकर खुद को नुकसान में बताती हैं. ठीक उसी समय कई कंपनियां भारी भरकम लाभांश यानी डिविडेंड बांटती भी नजर आती थी. ये कंपनियां कंपनी एक्ट के तहत आने वाले बही खाते में मुनाफा दिखाती थी. सरकार आमदनी की इस दो तरफा रिपोर्टिंग के जरिए इनकम टैक्स बचाने वाली कंपनियों पर लगाम लगाने के लिए चार दशक पहले न्यूनतम वैकल्पिक कर यानी (मैट) लेकर आई. अब उन सभी कंपनियों को टैक्स दायरे में लाने की तैयारी है जो जानबूझकर कंपनी एक्ट के तहत आने वाले बुक प्रॉफिट में भी बनावटी नुकसान दिखाने लगी हैं.

 

 

 

 


=====
Click for more news:
Page-1, Page-2, Page-3, Page-4, Page-5,
Page-6, Page-7, Page-8, Page-9, Page-10,

 

ALPAVIRAM

ALPAVIRAM

FREE PRESS Gujarat

LOKMITRA

LOKMITRA

Contact us on