Welcome to egujaratitimes.com!

धीरूभाई अंबाणी और उनका जोश

वाइब्रेन्ट गुजरात ग्लोबल समीट 10-13 जनवरी, 2017 तक आयोजित होने वाले आठवां एडीशन का दिन समीप आ रहा हैं ऐसे में वाइब्रेन्ट शब्द और मोहक लगता हैं। वाईब्रेन्ट को वाइब्रेन्सी को गुजराती में तरवाहट अथवा ऐसा कुछ कह सकते हैं। हमेशा वाइब्रेन्ट रहते व्यक्ति धीरूभाई अंबाणी का व्यक्तित्व जैसे कि इस वाइब्रेन्ट शब्द का पर्याय हैं। धीरूभाई अंबाणी के साथ काम करने का मुझे मौका मिला, वे कभी निरूत्साह अथवा हताश देखने को नहीं मिले। परिस्थिति विपरित हो तो भी।
वाइब्रेन्ट गुजरात मुझे धीरूभाई के प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन तथा ब्रान्ड के प्रमोशन संबंधी वाइब्रेन्ट विचार हमेशा याद आती हैं। धीरूभाई ने वर्ष 2002 में यह उपलब्धि प्राप्त की कि हमारे हाथ का मोबाइल टेलिफोन उपकरण एक डिजिटल क्रांति कर सकता हैं। यह सामान्य लोगों को भी पुषा सकता हैं, इस तरह का करके दिखा भी दिया।
ब्रान्ड के प्रमोशन हेतु की धीरूभाई के वाइब्रेन्ट विचार एक उत्तम उदाहरण रिलायन्स की प्रथम टेक्सटाइल ब्रान्ड विमल से विशेष क्या हो सकता हैं। विमल ब्रान्ड देशभर के घर -घर में प्रख्यात थी। लेकिन ब्रान्ड विमल तथा धीरूभाई के लिए यह मार्ग आसान नहीं था। उन दिनों कपड़ा बाजार में जमे हुए खिलाड़ी थे और इस क्षेत्र में पदार्पण करना याने लौहे के चने चबाने जैसा था। यहां तक कि मुम्बई और अहमदाबाद के होलसेल व्यापारी विमल ब्रांड का कपड़ा बेचने को तैयार नहीं थे क्योंकि उनको कपड़ा क्षेत्र के बड़े लोगों का भय था। नये नये नवोदित व्यवसायी को पनपने से पहले ही कुचल देने की फिराक में थे।

 

Gujarat's First Hindi Daily ALPAVIRAM's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

Gujarat's Popular English Daily
FREE PRESS Gujarat's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

Gujarat's widely circulated Gujarati Daily LOKMITRA's
Epaper

             
   

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10

11

12

13

14

15

16

17

18

19

20

21

22

23

24

25

26

27

28

29

30

31

         

 

Contact us on

Archives
01, 02